सिखबु लिखेक मोंय क ख

इसकूल जाबु मोंय पढ़बु क ख,
सिखबु मोंय तो इंगरेजी भाखा,
लिखवाय दे नी आयो इसकूल मोके,
लिखेक सिखबु नाम तोर,
पिइन्ध के जाबु मोंय जुता मोजा,
किन दे नी आयो खाता, पेंसील,
सिखबु लिखेक मोंय तो क ख ।

पेखना करोना आयो के,
नी बुझोना मजबुरी के,
संग मनके जायक देखोन होले,
भुख पियास मोर उड़ी जायल
जओन गुड़ियाय पिछे-पिछे,
आधा डहर मोंय घुईर अओन,
कहोन आयो लिखवाय दे नी इसकूल मोके,
कांदेल आयो मोर रझ-रझ कहेल मोके,
पावोन मांई मोंय आधा हजिरा,
तीन सांझ कर भात जेतरा,
का देबु मोंय खरचा तोर ले,
चुप रह नी मांई तोंय भात खाय के,

काम करबु आयो मोंय तोरे संगे,
हजिरा पाबु मोंय थोड़़को कने,
तेभियो जाबु मोंय इसकूल घरे,
सिखबु लिखेक मोंय क ख ।

                                          सानिया लकड़ा, मधु बागान

Please follow and like us:

One thought on “सिखबु लिखेक मोंय क ख

  1. बहुत ही मार्मिक और सच्चाई को उजागर करती कविता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *