नासा का एलियन शोध पर बड़ी घोषणा की संभावना

                 

केप्लर टेलिस्कोप

                                                                                                     नेह अर्जुन इंदवार

 

अंतरिक्ष में किसी ग्रह में एलियन (पृथ्वी के बाहर के प्राणी) की उपस्थिति संबंधी अपने शोध के क्रम में किसी बड़ी घोषणा करने की किसी संभावना से लगातार इंकार करने के बाद अब जाकर अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन) ने प्रेस  नोट जारी करके 14 दिसंबर 2017 गुरूवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करने की घोषणा की है। प्रेस कांफ्रेस को उन वैज्ञानिकों द्वारा संबोधित किया जाएगा, जो केप्लर स्पेस टेलीस्कोप (Kepler space telescope) द्वारा खोजे गए हजारों ग्रहों के अध्ययन में शामिल थे।

केप्लर अंतरिक्ष में तैनात एक वेधशाला है, जो नासा द्वारा दूसरे सितारों की परिक्रमा कर रहे पृथ्वी के आकार के ग्रहों की खोज के लिए  7 मार्च 2009 को अंतरिक्ष में  लॉन्च किया गया था । इसका नामकरण खगोल विज्ञानी जोहान्स केप्लर के नाम किया गया है। जोहान्स केप्लर का जन्म 27 दिसंबर, 1571 को हॉली रोमन साम्रज्य जर्मनी के डर स्टेड, वुर्टेमबर्ग में हुआ था। विज्ञान के प्रति अपनी झुकाव के कारण लुथेरन परिवार में जन्म लेने के बावजूद उन्होंने फॉर्मूला ऑफ कॉनकॉर्ड पर हस्ताक्षर करने से मना कर दिया था और जिसके कारण उन्हें लुथेरान चर्च के धर्म संस्कारों से बाहर कर दिया गया था। उन्होंने कैथोलिक धर्म को अपनाने से भी इंकार कर दिया था, जिसके कारण यूरोप में चले 30 वर्षीय धर्मयुद्ध में उनके पास आश्रय के लिए कोई जगह नहीं बची थी।

केप्लर टेलिस्कोप को आकाशगंगा के हमारे क्षेत्र के एक हिस्से का सर्वेक्षण करने के लिए तैयार किया गया है जो कि पृथ्वी-आकार के परग्रह (exoplanet) को या तारों के समीप हैविटेबल क्षेत्र में ग्रहों को खोजता है और अनुमान लगाता हैं कि आकाशगंगा में कितने करोड़ सितारों में ऐसे ग्रह हैं। केप्लर में एकमात्र वैज्ञानिक साधन एक फोटोमीटर है, जो एक निश्चित दृश्य के क्षेत्र में 145,000 से अधिक मुख्य क्रमित सितारों की चमक को निरंतर मॉनिटर करता है। इन आंकड़ों को पृथ्वी पर प्रसारित किया जाता है, फिर उनके मेजबान तारे के सामने पार करने वाले परग्रह के कारण प्रकाश में आए आवधिक धुंधलापन का पता लगाने के लिए विश्लेषण किया जाता है।

अब तक,  केपलर अंतरिक्ष दूरबीन ने 2500 से अधिक ग्रहों की सफलतापूर्वक पहचान की है और 2000 से भी ज्यादा का अभी अध्ययन किया जाना है । केप्लर ने कई ग्रहों को तथाकथित “गोल्डिलाक्स जोन” में अपने संबंधित मातृ स्टार का चक्कर लगाते हुए पाया है जो तरल पानी के प्रवाह के लिए उपयुक्त रूप से गर्म है।

प्रस्तावित प्रेस कॉन्फ्रेंस शायद उन ग्रहों में से किसी एक से संबंधित विशेष खोज की घोषणा करने के लिए किया जा सकता है।  

शोध के दौरान  दूरबीन (टेलिस्कोप) ने कई पृथ्वी-आकार के ग्रहों को रहने योग्य ज़ोन (habitable zone) पर पाया है, और शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि उनमें से कुछ में जीवन को समर्थन दे सकने लायक स्थिति होने की संभावना है।”

नासा के अधिकारियों के अनुसार, यह चौंकाने वाली खोज “Google द्वारा समर्थित मशीन सीखाई (Machine Learning) को उपयोग करते हुए की गई है।.”

नासा के वैज्ञानिक वर्तमान में नई वेब स्पेस टेलीस्कॉप (Webb space telescope) पर काम कर रहे हैं, जो 2019 में छोड़े जाने के लिए निर्धारित है। दूरबीन का मुख्य उद्देश्य अंतरिक्ष में पृथ्वी की तरह के परग्रहों की खोज करना है।

इस घोषणा के पूर्व,  जून 2017 के महीने में एक गुमनाम हैकिंग ग्रुप “एनोनिमस“ ने यू ट्यूब में अपने एक पोस्ट में संकेत दिया था कि पृथ्वी के बाहर जीवन की खोज संबंधी किसी शोध के निष्कर्ष पर नासा एक घोषणा करने वाली है। यू ट्यूब के उक्त वीडियों में किए गए दावे ने ऑनलाईन दुनिया में खलबली मचा दी थी। तब नासा के मुख्य वैज्ञानिक थॉमस ज़ुर्बुचेन ने 26 जून  2017 को  सोशल मीडिया ट्यूटर में इसका खंडन करते हुए @Dr_ThomasZ. के नाम से  लिखा था कि “कुछ रिपोर्टों के विपरीत, नासा से परग्रही जीवन के बारे में कोई घोषणा लंबित नहीं है।”

@Dr_ThomasZ. के नाम से ट्यूटर में दिए अपने एक दूसरे पोस्ट में उन्होंने लिखा था “क्या हम ब्रह्मांड में अकेले हैं ? हालांकि हम अभी तक नहीं जानते हैं,  लेकिन हमारे पास आगे बढ़ने वाले मिशन हैं जो कि मूलभूत सवालों का जवाब दे सकते हैं।”

गुमनाम ग्रुप द्वारा अपलोड ‘वीडियो, हैक किए गए दस्तावेजों पर पूर्णतः केंद्रित नहीं था, बल्कि अमेरिकी कांग्रेस (प्रतिनिधि सभा)  की “विज्ञान, अंतरिक्ष, और प्रौद्योगिकी उप समिति”  की सुनवाई के दौरान ज़ुर्बुचेन द्वारा अप्रैल 2017 में दी गई गवाही पर आधारित थी। https://science.house.gov/legislation/hearings/full-committee-hearing-advances-search-life   12-मिनट के उक्त वीडियो में कुछ अन्य विषयों पर भी कामेंट था, जिनमें स्टार ट्रैपिस्ट -1 (Star TRAPPIST-1) के चारों ओर चक्कर काटते धरती के आकार के सात ग्रह, कई यूएफओ दर्शन, शनि ग्रह के चंद्रमा एन्सेलेडस के दक्षिण ध्रुव के झरनों में हाईड्रोजन की खोज, बृहस्पति के उपग्रह यूरोपा से निकलते जल वाष्प के टुकड़े आदि घटनाएँ भी शामिल थीं। 

TRAPPIST-1 के चक्कर काटते सात ग्रह

अब नासा ने महत्वपूर्ण शोध निष्कर्ष को दुनिया के सामने रखने की घोषणा कर दी है तो उसका इंतजार किया जाए। लेकिन यूएफओ पर लगातार निगाहें रखने वाले ग्रुप्स के कई महत्वपूर्ण खोजों को नासा द्वारा लगातार साधारण और आधारहीन कहने के इतिहास के कारण कोई निश्चित निष्कर्ष की घोषणा की जाएगी, इसकी कम ही आशा रखी जा रही है। ऐसे ग्रुप लगातार यह आरोप लगाते रहे हैं कि विश्व सरकार के हितों का पोषण करने के लिए नासा महत्वपूर्ण शोध के निष्कर्षों पर पर्दा डालने का काम करता आ रहा है, जो मानवीय सभ्यता के वैज्ञानिक विकास में बाधक बन रहे हैं।  

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *