आईए पर्यावरण का करें सत्यनाश !

First ad

आइए सब मिल कर इस दीपावली पर पर्यावरण का सत्यनाश करते हैं और बाज़ार की मंदी को दूर करते हैं।
.
बाज़ार और हिन्दुत्व को बचाए रखने के लिए हवा, पानी और शांति-सौरव के साथ बलात्कार करना अनिवार्य हो गया है।
.
साल भर पर्यावरण पर चर्चा जरूर करेंगे, बेरोजगार देश में समय काटने के लिए यह बेहद जरूरी है। साथ ही कई हजार नये कपड़ों में लद-फद होकर कर दीप के साथ जम कर पटाखे फोड़ेंगे। हवा को जहरीला बनाएंगे। बस चीनी झालर का बहिष्कार करेंगे, यह दुश्मन चीन को सबक सिखाने और आँखें तरेरने के लिए अनिवार्य है।
.
अजी साहब, देश के पटाखे उद्योग को जिंदावली रखने, रोजगार को बचाए रखने के लिए कई टन पटाखे फोड़ना जरूरी है। इससे बाज़ार में आई सुस्ती को कम करने में मदद मिलती है। जाहिर है कि इससे हमारी देशभक्ति कई किलोग्राम बढ़ जाएगी।
.
देश के बीस करोड़ लोग बीमार पड़ेंगे तो मेडिकल उद्योग को फायदा होगा और नये रोजगार पैदा होंगे।
आखिर “स्वच्छ-भारत” कब तक मनाएँगे ? “गंदगी-भारत” मलेरिया, डेंगु पर धाँसू निबंध लिखने के लिए बच्चों को मैटिरियल मिलेगा कहाँ से बंधु ?
कान फोडू पटाखे फोंड़े और एक साथ दस माईक में गाना जरूर बजाएँ।
.
बस चीनी झालर न खरीदें और खूब पटाखे फोड़ें।
.
गाय, बैल के सिंग में तेल लगाएँ, रस्सी अम्मअ (पानी) मिले कोंहड़ी, दाना-पानी को गाय बैल बकरी को खूब खिलाएँ और खूब सोहराई मनाईए।
.
दीया जलाकर हैप्पी दीपावली भी करें। कैंडल जला कर हैपी दीवाली करेंगे तो कैंडल बनाने वालों को दिवाला न मनाना पड़ेगा।
.
खबरदार सौ रूपये के चीनी झालर न खरीदें�।
.
दीवाली डिस्काउंट मिले तो 20 हजार का चीनी मोबाइल जरूर खरीदें और पाकिस्तान विरोधी होने का सबूत पेश करें।
.
बगदादी के मरने की खबर पर “ट्रम्प डाँस” करें। हिन्दुत्व का वजन जरूर बढ़ेगा।
.
जुआ न खेलें और जाम न टकराएँ तो क्या खाक सोहराई और क्या फाक दीवाली ?
.
बोलिए। चियर्रस.. 🍸🍸🍷🍾🏺

third ad