आयो कर माया

third ad

सानिया लकड़ा

Second ad

आयो मोर बिहाने उठेल,

भात रांधेल, रोटी पकाएल,

मोके उठाएल, मुख धोवेल,

खाएक लगिन रोटे देवेल,

सीटी लागेल, मोके छोइड़ उरमाल जोरेल,

आयो मोर तोरेल पतई बगान में।

नदी नाला, गाड़हा ढ़ोड़हा सोब जगन,

उरमाल में भरेल पतई मगन,

खाली गतर, खाली गोड़े,

भरेल पतई, तोइर थोड़े-थोड़े,

गारा बजे छुट्टी होवेल,

आयो मोर घर आवेल,

कुँहुड़ होवल मोर काया,

नी मरेला आयो, करेल मुरूक माया ।

डेढ़ बजे फिन जाएल,

पतई तोरेक, कहेल आयो

ना कांदवे बेटी एकले-एकले,

लाईन देबु मोय, खाजा तोरले,

ओगरोत रहोन मोय सांझ होल तक।

आसरा देखोना मुरही लाडू कर,

आयो मोर आवेल नहीं, राईत होवेला,

कांदोन सोईच के आयो-आयो।

आबा कहेला, भाग हिंयाँ से दिगदारी छौवा,

कांदोन मुरूक भुंईया में सुइत-सुइत के,

आवेल आयो, करेल कोरा देवेल मोके

मुरही लाडू हासोन मुरूक खिट-खिटाय के,

देखेला आयो हाइंस- हाइंस के,

पोटरेल मोके साँवराय साँवराय के,

भात खियाएला निंदवाएल मोके

पिपर पतई कर गीत सुनाय के।

ऐ मोर सुंदरी आयो कहाँ पाबु मोंय,

एसेन दुलारी आयो, ना जाबे यो मोके छोइड़,

काइंद देबु मोंय आँईंख भई