सिंग के बजाय सिर काटते लोग

First ad

जुलाई 2019 महीने के द्वितीय सप्ताह में  गुजरात के बनासकांठा जिले के दांतीवाड़ा तालुका के ठाकोर समुदाय ने अपने समाज के अविवाहित लड़कियों के लिए फरमान जारी किया है कि यदि युवा अंतरजातीय विवाह करते हैं या अविवाहित लड़कियाँ मोबाईल इस्तेमाल करते पकड़ी गई तो उनके माता पिता को इसके लिए जिम्मेदार माना जाएगा और उनके परिवार को डेढ़ से दो लाख रूपये जुर्माना भरना पड़ सकता है।

First ad

सामाजिक जड़ परंपराओं को मानवीय दिमागी स्वतंत्रता पर थोपने और मनुष्य के नैसर्गिक मेधा में उठने वाले वैचारिकी हलचलों को बांधने और दिमागी गुलामी व्यवस्था को सुदृढ़ करने का यह एक उदाहरण मात्रा है। दिमागी और सांस्कृतिक-धार्मिक रूप से बंद समाजों के द्वारा ऐसे फतवा जारी करना नई बात नहीं है। वैज्ञानिक सोच से रहित सभी भारतीय और एशियाई-अफ्रीकी समाज कमोबेश ऐसे व्यवहार करते हुए देखे गए हैं।

हाल ही में गुजरात के ही एक युवक को पुलिस की मौजूदगी में ससुराल वालों ने इसलिए मार डाला क्योंकि वह तथाकथित दलित जाति से संबंध रखता था। जान बरेली में एक तथाकथित उच्च जाति की बालिग लड़की के द्वारा एक तथाकथित नीच जाति के लड़के के साथ की गई शादी और लड़की के द्वारा अपने पिता पर हिंसा के लिए लगाए गए आरोप को लेकर अखबारों ओर सोशल साईटों में गर्मागर्म बहस जारी है।

जाति, वंश और नस्ल, धर्म, भाषा, संस्कृति आदि की शुद्धता को बचाने की सोच अपने आप में एक अधोगामी सोच है। यह सोच समुदायों के बीच बने मध्ययुगीन, ऐतिहासिक, भिन्नता और विभिन्ना युक्त खाईयों को यथावत बनाए रखने और अपनी जाति, वंश, धर्म, नस्ल के लोगों के असंबंद्ध लोगों के नैसर्गिक, संवैधानिक, कानूनी, स्वतंत्र- स्वाभाविक मानवीय सोच, अधिकार और व्यवहार को नकारने, हेय समझने और सामूहिक रूप से अन्याय, पक्षपात करने की संगठित प्रयास के लिए प्रेरित मानसिक बीमारी है। इसी बीमारी से जर्मीनी के तानाशाह हिटलर पीडित था, और इसी बीमारी को भारतीय समाज में संगठानिक रूप से संयोजित करने की कोशिशें की जा रही है। भाषा, धर्म, क्षेत्र, राज्य, जाति, वर्ण के नाम पर भारत में पक्षपात, अन्याय की एक अंतःयुद्ध ही जारी है।

आधुनिक राज्यों के सकल्पनाओं के अधीन गठित गणतांत्रिक व्यवस्था से शासित समाज, लोकतांत्रिक कानूनी मान्यताओं के साथ मानवीय मेधा विकास के उपलब्ध अवसर, मानवीयता विकास की अवधारणाओं में मशानी सहयोग को भारतीय समाज स्वतंत्रता प्राप्ति के कई दशक बीत जाने के बाद भी स्वीकार नहीं कर रहा है और वह अपनी मध्ययुगीन परंपराओं की जड़ को नये अमानवीय तरीके से सींचने का प्रयास करते रहता है। विज्ञानमय वैज्ञानिक दृष्टिकोण से तैयार शिक्षा सामग्री और नयी सतत आधुनिक दृष्टिकोण से घर-घर पहुँचते अल्ट्रमॉर्डन मीडिया सामग्री भी भारतीय मध्ययुगीन पितृसत्तात्मक पोंगपंथी परंपरा को ध्वस्त करने में नाकाम सिद्ध हो रही है।

आधुनिक विज्ञान ने मानवीय समाज को स्मार्ट फोन नामक एक नयाब अनोखा वरदान दिया है, जिसने मनुष्य समाज के कार्य-व्यवहार, शिक्षा, संपर्क की दुनिया में अब तक की सबसे बड़ी क्रांति ला दिया है। अब मानवीय समाज एक ऐसी दुनिया में बसता है, जिसमें दुनिया का कोई भी हिस्सा उनसे दूर नहीं है और वह समस्त दुनिया के मानवीय कार्य-व्यवहार और घटनाओं से व्यक्तिगत स्तर पर जुड़ा हुआ रहता है। संचार-संवाद-शिक्षा-ज्ञान-विज्ञान के हर क्षेत्र आज के मानव की मुट्ठी में रहता है। इंटरनेट तक की पहुँच को कई देशों में मौलिक अधिकार माना गया है। स्मार्ट फोन इस मौलिक अधिकार को व्यक्ति के हाथों में देकर मानवीय विकास की एक ऐसी संसार की रचना कर रहा है, जो अभूतपूर्व है। 4 जी के बाद अब 5 जी दुनिया को एक ऐसी दुनिया में पहुँचा देगी, जिसकी कल्पना किसी साईंस फिक्शन में भी नहीं की गई होंगी। यह संचार-शिक्षा-शासन,चिकित्सा,वाणिज्य-बाजार और मानवीय संवाद के रूप-रंग, आकार-प्रकार और प्रकृति को ही बदल कर रख देगा।

स्मार्ट फोन से युवाओं को कट के रखना उन्हें विकास के पथ से कट कर नियंत्रित अभयारण्य में रखने के बराबर होगा, जहाँ वे वैयक्तिक और मानसिक रूप से ऐसे लोगों से पिछड़े होंगे, जिनके पास ज्ञान सागर की असीमित पहुँच होंगी। यह सिर में उग आए सिंग को काटने के बजाए सिर को ही काटने का निर्णय साबित होगा। एक स्वतंत्र देश में अपनी ही युवाओं की स्वतंत्रता को सीमित करने और परंपराओं को बनाए रखने के नाम पर बुजुर्गों को ऐसा करने देना आत्महत्य के लिए ऊँची पहाड़ी से नीचे दौड़ने की अनुमति देना ही होगा।