भारी विसंगतियाँ हैं चाय बागान वेतन पर्ची में

third ad

#Dooars_Terai के दोस्तों के ध्यानार्थ :- बहुत महत्वपूर्ण है यह। पूरा पढ़ें ओर तदनुसार सहयोग करें।
****🌿☘️🍀
एक दिन पूर्व Rahul Kumar ने अटियाबाड़ी चाय बागान की वेतन पर्ची को फेसबुक में अपलोड किया था। फिर Silvanus Biswa ने अपने बागान का पे स्लिप को अपलोड किया। मुझे उनका बागान का नाम नहीं मालूम। फिर भगतपुर के Pritam Kisku ने अपने बागान का स्लिप को अपलोड किया। मैं आपलोगों की जानकारी के लिए कल मेरे द्वारा लिखे गए एक पोस्ट को यहाँ शेयर कर रहा हूँ।
****💥💫🔥
“Minimum wages Rules, Contract rules and factories rules, तथा अन्य विनियमों के तहत स्थायी कर्मचारी या मजदूर को वेतन पर्ची देना अनिवार्य है। नियमों के तहत वेतन पर्ची या पे स्लिप वेतन या मजदूरी भूगतान के एक दिन पहले देना जरूरी है। भारत सरकार और तमाम सरकारी उपक्रमों में यही नियम पालन किया जाता है। Minimum Wages (Central) Rules FORM XI के अधीन वेतन पर्ची जारी किया जाता है। वेतन पर्ची में Wage Slip Rule 26(2) के तहत कंपनी का नाम, कंपनी कहाँ है उस जगह का नाम, कर्मचारी का नाम और उसका पद और उसके कर्माचीर संख्या या पीएफ संख्या, कौन सा महीना या अवधि का वेतन है उसका जिक्र, कर्मचारी का बेसिक वेतन और डीए (महंगाई भत्ता), कर्मचारी ने कितने दिन काम किया है उसका जिक्र, उसकी अनुपस्थिति के दिनों की संख्या, ओवर टाईम, कुल काटे गए वेतन (एडवांस या ऋण की वसूली, पीएफ, पेंशन, मेडिकल आदि), सकल भूगतान की राशि आदि का स्पष्ट उल्लेख किया जाना अनिवार्य है। वेतन पर्ची से पता चलता है कि कोई कहाँ, किस पद में स्थायी रूप से काम करता है। वेतन पर्ची से पता चलता है कि संदर्भित साल में कर्मचारी के वेतन से कुल कितने रूपये पीएफ के नाम पर काटा गया है। वेतन पर्ची बैंक से लोन लेने के काम में भी आता है। व्यक्ति वस्तुतः कितना कमाता है यह वेतन पर्ची से ही पता चलता है। वेतन पर्ची से ही इन्सुरेन्स के भुगतान की भी जानकारी होती है और एलआईसी या किसी अन्य कंपनी से दावे करने के लिए सबूत के रूप मे काम आता है। वेतन पर्ची के नीचे पर्ची जारी करने वाले ऑथारिटी का भी नाम लिखना या हस्ताक्षर करना अनिवार्य अंग है। वेतन पर्ची कोर्ट में प्रस्तुत किए जाने वाला एक कानूनी मान्य सबूत होता है।
• चाय बागानों में फिलहाल मजदूर के वेतन को बैंक में जमा करने का नियम है। यदि पर्ची नहीं रहेगा तो मजदूरों को पता ही नहीं चलेगा कि उनको कितना भुगतान किया गया है।”
***🎻🎷🎯🎯🎯
चाय बागानों से हजारों शिक्षित-अर्द्धशिक्षित युवक-युवती फेसबुक से जुड़े हुए हैं। उनकी माता-पिता चाय बागानों में काम करते हैं। उन्हें उनकी कमाई का पूरा-पूरा पैसा मिले और उनका कोई आर्थिक शोषण न हो उसके लिए जरूरी है कि उन्हें कितना वेतन मिलता है कितना किन मद्दों में कट जाता है मतलब deduction होता है, के बारे अध्ययन किया जाए और यदि आवश्यक हो तो उपचारात्मक उपाय बताया जाए। इसलिए सभी दोस्तों से अनुरोध है कि वे फेसबुक में अपने बागान के वे स्लिप को यहाँ अपलोड करें। सभी के Pay Slip मिलने के बाद हमलोग सभी मिल कर उनपर जनचर्चा करेंगे और जरूरत होगा तो आवश्यक कदम उठाएँगे।

third ad